Subscribe Us

THE YOUTHNEWS

30 साल बाद कश्मीरी हिन्दुओ के जख्मो पर नमक छिड़केंगे वामपन्थी।


स्वरा भास्कर ने दिया शाहीन बाग में जश्न-ए-शाहीन का न्योता !

19 जनवरी 1990 का दिन भारत के इतिहास का एक ऐसा दिन है जिसको याद करके रोंगटे खड़े हो जाते हैं खासतौर से कश्मी’री पंडितों के? जी हां, यह वह दिन है, जब कश्मीर में मस्जिदों में ऐलान हुआ और उसके बाद लाखों कश्मी’री पंडितों को देश का स्वर्ग कहे जाने वाला कश्मीर छोड़ना पड़ा! बता दें कि 4 जनवरी 1990 के दिन उर्दू अखबार आफताब में हिज्बुल मुजाहिदीन ने छुपाया था कि सभी कश्मी’री पंडित कश्मीर छोड़ दे! यही नहीं बल्कि अल सफा नाम के अखबार में यह बात दोबारा छापी! जब यह आलम था कि मस्जिदों और चौराहों पर लाउडस्पीकर के द्वारा अनाउंस किया गया कि पंडित लोग यहां से चले जाए नहीं तो बुरा होगा! इसके बाद से ही कश्मीर में लोग ह’त्या और रे’प जैसी घट’नाओं को अंजाम देने लगे! और कहते कि पंडित लोग यहां से भाग जाओ और अपनी औरत छोड़ जाओ! 

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, कश्मीर से लगभग 60,000 परिवार छोड़ कर चले गए और आसपास के राज्य में बस गए! 19 जनवरी 1990 वह काला दिन है जब बड़ी मात्रा में कश्मीरी पंडितों ने अपना घर बार सब छोड़ दिया! उस दिन करीब चार लाख कश्मीर के पंडितों ने कश्मीर छोड़ा था! आंखें नम थी, लेकिन मजबूर थे तो कश्मीर छोड़ना पड़ा! इतना ही नहीं बल्कि उस समय कई परिवारों की महिलाओं बेटियों के साथ बला’त्कार को भी अंजाम दिया गया! यह भारत के इतिहास का वह काला दिन है जो शायद कभी भूल ही नहीं पाएगा! आजीवन याद रहेगा!  

लेकिन अब उसी जखम को हरा करने के लिए, लगभग 30 साल बाद उसे कुरेद कर नमक डालने की तैयारी की जा रही है! यह तैयारी कहीं नहीं और बल्कि देश की राजधानी दिल्ली के शाहीन बाग में हो रही है! स्वरा भास्कर की माने तो 19 जनवरी को 7:30 बजे शाहीन बाग में जश्न-ए-शाहीन मनाया जाएगा! जबकि 19 जनवरी कश्मीरी पंडित कभी भूल नहीं सकते जिसके चलते कश्मीरी पंडित जनसंहार दिवस मनाएंगे! भारत ही नहीं बल्कि अमेरिका सहित कई बड़े देशों में इस दिन सभा होगी! क्योंकि 19 जनवरी को कश्मीर में क’ट्टरपंथि’यों द्वारा कश्मीरी पंडितों को बाहर निकाला गया था और उनकी ह’त्या भी की गई थी! और इस दिन जश्नए-शाहीन बनाया जा रहा है!

Post a comment

0 Comments