Subscribe Us

THE YOUTHNEWS

JNU की घटना का सच !


JNU की घटना का सच !
AVBP का  छात्र


देखिये, मुझे न तो राजनीति आती है..न कूटनीति आती है..और न ही भावनाओं को छिपाना आता है, इसलिये खुलके कहता हूँ कि कांग्रेस के टुकड़ों पर पला बढ़ा ये वामपंथ कल की घटना के बाद इसलिए बिलबिला गया है कि अगर JNU जैसे क्रांतिकारी  संस्थान में भी इनकी इकतरफा गुंडागर्दी के दिन लद गए तो कहां जाएंगे..!जेएनयू में क्या हुआ?
---
- जेएनयू में अगले सेमेस्टर के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन का काम चल रहा था। एक दिन पहले वामपंथी छात्र संगठनों ने सर्वर रूम में पहुंचकर इंटरनेट बंद करवा दिया, ताकि रजिस्ट्रेशन न हो सके। 
- इसके बावजूद करीब 2200 छात्रों ने रजिस्ट्रेशन करवाया। 
- जिससे बौखलाए लेफ़्ट संगठनों ने आदेश न मानने वाले छात्रों की लिस्ट तैयार की। 
- क़रीब 300 से 400 की संख्या में नक़ाबपोश हमलावर कल रात कैंपस में घुसे और हॉस्टल से निकालकर छात्रों को पीटा जाने लगा।
- दिन भर इन छात्रों के साथ मारपीट चलती रही। छात्र-छात्राएं जब सोशल मीडिया पर पोस्ट कर रहे थे तो ट्विटर फ़ेसबुक उन्हें ब्लॉक कर रहे थे।
- वामपंथी छात्र संगठनों के हुक्म की अनदेखी करके रजिस्ट्रेशन कराने वाले कई छात्र-छात्राएं इस मारपीट में घायल हुए। लेकिन ख़बर दबा दी गई।
- शाम होते-होते ABVP ने अपने भी लोगों को भी बाहर से बुला लिया।
- ABVP के हावी होते ही इकोसिस्टम जाग उठा।
- पूरी तरह से एकतरफा तस्वीर पेश की जा रही है।
- यूनिवर्सिटी प्रशासन ने भी तब तक पुलिस को अंदर आने की इजाज़त नहीं दी जब तक ABVP वाले पिटते रहे और अस्पताल भेजे जाते रहे।
- जितनी तेज़ी से दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर पर नक्सलियों की फ़ौज पहुँच गई हो सकता है ये पहले से रची हुई साज़िश हो। जामिया मामला जिस तरह से उलटा पड़ा है। उसके बाद इन्हें नए मसले की तलाश थी जो इस तरह से पूरी की गई है!

Post a comment

0 Comments